IAS कैसे बनें? IAS Full Form in Hindi – सम्पूर्ण जानकारी

यदि आप IAS बनना चाहते है या IAS ka full form जानना चाहते है तो आप सही जगह पर है। आज इस IAS full form in hindi आर्टिकल मे हम उन सभी पहलुओं पर विस्तार से बात करने वाले जो एक IAS से संबन्धित है। IAS से संबन्धित सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए इस आर्टिकल को पूरा लास्ट तक जरूर पढ़े।

IAS एक ऐसा नाम है जो UPSC के द्वारा तय अधिकारी की रैंक होती है। एक IAS अधिकारी बनना बहुत से लोगों का सपना होता है। इसे पाने के लिए Students दिन रात मेहनत भी करते है। एक IAS अधिकारी का पद बहुत ऊंचा और बहुत सी जिम्मेदारियों से भरा होता है।

IAS Full Form in hindi

IAS की परीक्षा बहुत ही कठिन परीक्षाओं मे से एक होती है लेकिन नामुमकिन नहीं होती है इसकी तैयारी यदि कड़ी मेहनत और लगन के साथ किया जाता है तो सफलता अवश्य मिलती है। हर साल लोखों Students इस परीक्षा मे बैठते है और उनमे से कुछ Students ही IAS पद पर सेलेक्ट हो पाते है।

आईएएस की फुल फॉर्म – IAS Full Form in Hindi

IAS को हिन्दी मे भारतीय प्रशासनिक सेवा कहा जाता है। भारतीय प्रशासनिक सेवा के तहत ही डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट बनाये जाते है। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को शॉर्ट फॉर्म मे DM कहते है। एक DM पूरे जिले का सबसे बड़ा प्रशासनिक अधिकारी होता है।

IAS एक बहुत ही रिस्पेक्टफुल पद होता है। IAS Full Form in Hindi की बात करें तो IAS ka Full Form “इंडियन एड्मिनिसट्रेटिव सर्विस” (Indian Administrative Service) होता है।

IAS बनने के लिए UPSC द्वारा आयोजित परीक्षाओं को पास करना पड़ता है। इसके बाद यदि अच्छी Rank आती है तो ही IAS का पद मिलता है।

IAS क्या होता है? (IAS Kya Hai)

भारत देश में संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) अन्य भारतीय सेवाओं की परीक्षा की तरह IAS की परीक्षा भी हर साल आयोजित करवाता है। IAS एक केन्द्रीय प्रशासनिक सेवा (Civil Service Examination) है।

भारतीय समाज में IAS एक प्रतिष्टि पद होता है। जिला कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट व जिले के प्रशासनिक अधिकारी आदि कई अलग-अलग प्रकार के अधिकारी इस पोस्ट के अंतर्गत ही आते है। IAS Officer बनाने के लिए कड़ी मेहनत और लगन की जरूरत होती है। कई बार तो Students एक बार में एग्जाम पास नहीं कर पाते है। और Exam क्लियर करने में कई वर्षो का समय लग जाता है। बहुत ही कम Students ऐसे होते है जो एक बार में एग्जाम क्लियर कर लेते है। इस एग्जाम को पास करने के लिए कड़ी मेहनत और कठोर दृढ़ संकल्प की जरुरत होती है।

IAS अधिकारी कैसे बने? (IAS Kaise Bane)

एक IAS अधिकारी बनाने के लिए आपको UPSC के द्वारा दिये गये निर्देशों का पालन करना होता है। सीधी भर्ती के तहत भारत के संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) को IAS, PCS, IRS, के साथ-साथ समूह-A और समूह-B के भर्तियों का कार्य करने को दिया जाता है। UPSC के माध्यम से ही भारतीय सेवा और केंद्रीय सेवा अधिकारियों की भर्ती का काम करवाया जाता है।

IAS अधिकारी बनने के लिए हाईस्कूल व इंटरमीडिएट के बाद स्नातक की डिग्री होना अनिवार्य होता है। स्नातक की परीक्षा पास करने के बाद आप UPSC प्रिलिम्स के लिए अप्लाई कर सकते है। IAS बनने के लिए क्या योग्यताएँ होनी चाहिए इस संदर्भ मे नीचे आपको कुछ पॉइंट्स बताए गये है जिन्हे आप ध्यान से पढ़ें।

शैक्षणिक योग्यता (IAS Eligibility)

  • इंडियन एड्मिनिसट्रेटिव सर्विस की परीक्षा देने के लिए वह Students यह सुनिश्चित करे कि वह भारत का नागरिक हो।
  • IAS बनने के लिए वह किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक किया होना चाहिए यानि स्नातक की डिग्री होनी चाहिए।
  • यही कोई Student स्नातक के अंतिम वर्ष मे है तो वह भी UPSC Exam देने के लिए योग्य माना जाता है।
  • MBBS, B.tech, कंप्यूटर व एग्रीकल्चर etc. की डिग्री यदि है तो यह भी मान्य होता है।

शारीरिक व अन्य योग्यताएं

  • सामान्य वर्ग के Students के लिए आयु सीमा अधिकतम 32 वर्ष होना चाहिए।
  • सामान्य वर्ग के शारीरिक रूप से विकलांग Students के लिए आयु सीमा अधिकतम 42 वर्ष होना चाहिए।
  • अन्य पिछड़ा वर्ग के Students के लिए आयु सीमा अधिकतम 36 वर्ष होना चाहिए।
  • अन्य पिछड़ा वर्ग के शारीरिक रूप से विकलांग Students के लिए आयु सीमा अधिकतम 45 वर्ष होना चाहिए।
  • अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति वर्ग के Students के लिए आयु सीमा अधिकतम 37 वर्ष होना चाहिए।
  • अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति वर्ग के शारीरिक रूप से विकलांग Students के लिए आयु सीमा अधिकतम 47 वर्ष होना चाहिए।

यह भी पढ़ें-

IAS परीक्षा कितने प्रयासों मे दी जा सकती है? (IAS Full Form in HIndi)

सिविल सेवा परीक्षा के उम्मीदवार के लिए उपलब्ध अवसरों की संख्या उस Student के श्रेणी पर निर्भर करता है। आरक्षण के आनुसार ही अवसरों की संख्या का निर्धारण किया जाता है। जैसा कि आपको पता होगा कि भारत मे ई.डबल्यू.एस/ अन्य पिछड़ा वर्ग/ अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति वर्ग के Students को आरक्षण प्राप्त होता है। इसी के तहत UPSC ने भारत सरकार द्वारा लागू आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्गों के लिए आरक्षण की व्यवस्था को भी इन श्रेणियों में जोड़ दिया है।

Economically Weaker Section (EWS) आरक्षण कानून में सामान्य वर्ग के गरीब लोगों को भी 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था कर दी गई है। लेकिन EWS उम्मीदवारों के लिए पात्रता की शर्तों को नहीं बदला गया है और सामान्य Students की पात्रता शर्तों के साथ गठबंधन किया गया है।

  • सामान्य वर्ग के Students के लिए प्रयासों की संख्या 6 बार होती है।
  • अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) के Students के लिए प्रयासों की संख्या 9 बार होती है।
  • अनुसूचित जाति (SC) व अनुसूचित जनजाति (ST) वर्ग के Students के लिए प्रयासों की संख्या असीमित बार होती है।

यदि आपको प्रयासों से संबन्धित योग्यता मे कोई डाउट या दिक्कत आ रही है तो आप UPSC की Official वैबसाइट को Visite कर सकते है नीचे UPSC Official FAQ पीडीएफ़ दी गयी है आप देख सकते है।

Download Pdf

एक IAS के कार्य व Power क्या है? (IAS Powers and Duties)

  • सरकार नीतियां बनाती है और IAS अधिकारी इसे तैयार करने, इसे लागू करने और यह सुनिश्चित करने के लिए काम करता है कि यह अपेक्षित तरीके से काम करता रहे।
  • लोकसभा एवं राज्यसभा के सदस्यों के फंडों का लेखा-जोखा रखना भी IAS अधिकारी के अधिकार क्षेत्र में आता है।
  • यदि संबंधित IAS अधिकारी के क्षेत्र में कोई अनियमितता है तो, आईएएस राज्य विधायिका के प्रति जवाबदेह है।
  • भारत सरकार एवं राज्य सरकारों के नीतियों को लागू करना एवं उनकी निगरानी करना IAS ऑफिसर के कार्य क्षेत्र में आता है।
  • एक IAS के पास नीतियां बनाने और उन्हें वित्त के अनुसार लागू करने की शक्ति होती है, लेकिन निर्णय उस मंत्री द्वारा लिया जाता है जिसके तहत IAS अधिकारी काम कर रहा है।
  • क्षेत्र के सभी विकास कार्यों को उस क्षेत्र के संबंधित IAS अधिकारी द्वारा संभाला जाना है और कानून व्यवस्था की देखभाल करना है।
  • पीएचडी कैसे करें।
  • टैक्स कोर्ट भी उस क्षेत्र के IAS अधिकारी के अधिकार में आते हैं।
  • एक IAS कार्यकारी जिला मजिस्ट्रेट के रूप में काम करता है।
  • IAS का मुख्य कर्तव्य उस क्षेत्र की कानून व्यवस्था को बनाए रखना होता है
  • राज्य और केंद्र सरकार द्वारा बनाई गई नीतियों की निगरानी और कार्यान्वयन की आवश्यकता है, जिसका हमेशा उस क्षेत्र के IAS द्वारा ध्यान रखा जाता है।
  • जहां तक ​​नीति निर्माण और निर्णय लेने का संबंध है, IAS पदानुक्रम के विभिन्न स्तरों पर काम करता है जैसे कि उप-सचिव, सचिव आदि बन सकते हैं।
  • सार्वजनिक निधियों के व्यय की निगरानी करना और स्वामित्व के अनुसार उनका उपयोग करना एक IAS अधिकारी के आधीन होता है।
  • कभी-कभी नीतियों को निश्चित रूप देना और उन्हें आकार देने में योगदान देना भी एक IAS अधिकारी के अधिकार मे होता है।
  • भारतीय प्रशासनिक सेवा का प्रधान IAS ऑफिसर होता है।
  • सरकार की दैनिक गतिविधियों के प्रबंधन और संबंधित विभाग के लिए जिम्मेदार मंत्री से परामर्श करके नीति के कार्यान्वयन पर नज़र रखना भी IAS अधिकारी का होता है।
  • ऑनलाइन पैसा कमाने के टॉप 5 तरीके जिससे लाखों कमा सकते है।

IAS की मासिक सैलरी क्या होती है? (IAS Salary in India)

हमारे भारत देश में IAS Officer को एक अच्छा वेतन दिया जाता है। उनके लिए बहुत-सी सुविधा और पुरस्कार भी दिए जाते है। वेतन आयोग के अनुसार IAS ऑफिसर का वेतन 56,100 रुपये है। इसके आलावा महंगाई भत्ता, यात्रा भत्ता और अन्य कई भत्ते भी मिलते है। एक रिपोर्ट्स के अनुसार, IAS ऑफिसर का कुल वेतन 2.5 लाख रुपये प्रति माह से भी अधिक हो सकता है और यही वेतन समय और पदोन्नति के साथ धीरे-धीरे बढ़ता जाता है। पदोन्नति कार्य करने की शक्ति और काबिलियत पर निर्भर करता है।

IAS अधिकारी के प्रमुख पद कौन-कौन से है? (IAS Post List)

UPSC के द्वारा निर्धारित अनेकों पदों मे कुछ पद ऐसे होते है जो ज्यादा महत्वपूर्ण होते है। नीचे कुछ पद लिखे गये है जिन्हे आप देख सकते है।

  • जिलाधिकारी – DM
  • उप-जिलाधिकारी – SDM
  • जिला कलेक्टर
  • मुख्य सचिव
  • कैबिनेट सचिव
  • ज़िला आयुक्त
  • चुनाव आयुक्त
  • सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों के प्रमुख व् अन्य।

UPSC परीक्षा पास करने के बाद मेरिट के अनुसार पदों का आवंटन होता है। UPSC के द्वारा दिये जाने वाले पदों की सूची आप नीचे देख सकते है।

  • भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS)
  • भारतीय पुलिस सेवा (IPS)
  • भारतीय विदेश सेवा (IFS)
  • भारतीय वन सेवा (IFS)
  • भारतीय राजस्व सेवा (IRS) – Income Tax
  • भारतीय राजस्व सेवा (IRS) – Customs
  • भारतीय रक्षा लेखा सेवा (IDAS)
  • भारतीय डाक एवं तार लेखा एवं वित्त सेवा (IP&TAFS)
  • भारतीय रक्षा संपदा सेवा (IDES)
  • भारतीय आयुध निर्माणी सेवाएं (IOFS)
  • केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF)
  • भारतीय रेलवे ट्रैफिक सेवा (IRTS)
  • रेलवे सुरक्षा बल (RPF)
  • भारतीय आर्थिक सेवा (IES)
  • संघ शासित प्रदेश प्रशासनिक सेवा
  • राज्य प्रशासनिक सेवा
  • राज्य सेवाएं
  • भारतीय सूचना सेवा (IIS)
  • लोक सेवा विभाग
  • राज्य वन सेवा
  • राज्य पुलिस सेवा
  • संघ शासित प्रदेश पुलिस सेवा
  • भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा (IRPS)
  • केंद्रीय सचिवाल्य सेवा
  • भारतीय रेलवे लेखा सेवा (IRAS) रक्षा सचिवालय सेवा

IAS FaQ (सवाल-जवाब)

आईएएस का दूसरा नाम क्या है?

आईएएस का दूसरा नाम भारतीय प्रशासनिक सेवा है।

आईएएस ऑफिसर को हिंदी में क्या बोलते हैं?

आईएएस ऑफिसर को हिन्दी मे भारतीय प्रशासनिक सेवा बोला जाता है।

आईएएस का फिजिकल कैसे होता है?

भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी बनने के लिए यूपीएससी को कोई निर्धारित क्राइटेरिया नहीं आप यूपीएससी क्लियर कर डाइरेक्ट आईएएस अधिकारी बन सकते है।

UPSC के लिए कौन सी पढ़ाई करनी पड़ती है?

UPSC के लिए स्नातक के तीसरे साल ही अप्लाई कर सकते है। इसके लिए आप किसी भी विषय-वर्ग से हो यह मायने नही रखता है।

हमे पूरा भरोसा है कि आपको यह पोस्ट IAS ka Full Form जरूर पसंद आया होगा। हम हमेशा से यह कोशिश करते रहते है कि हम आपके लिए अच्छा से अच्छा Content लेकर आए। हम आशा करते हैं कि अब आपको IAS Full Form in Hindi से संबन्धित सभी जानकारी मिल गयी होगी।

अगर आपके पास आर्टिकल से संबन्धित कोई सुझाव व सवाल है तो आप हमे नीचे कमेंट के माध्यम से बता/पूंछ सकते है। यदि आपको आज की यह पोस्ट पसन्द आई है तो आप अपने Friends के साथ इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे।

10 thoughts on “IAS कैसे बनें? IAS Full Form in Hindi – सम्पूर्ण जानकारी”

Leave a Comment