Phd फुल फॉर्म क्या होता है Phd Full Form in Hindi- सम्पूर्ण जानकारी

आप अगर यहाँ तक आ गए है तो इसका मतलब है या आप यह जानने के इच्छुक है कि पीएचडी का फुल फॉर्म (PhD Full Form in Hindi) क्या होता है? Ph.D क्या होती है? PhD कहाँ से कर सकते है? कितनी फीस लगती है? और इसके लिए क्या योग्यता होनी चाहिए आदि प्रकार के और भी अनेकों सवाल आपके मन मे होंगे। आपको बता दें कि आप बिलकुल सही जगह पर आए है क्योंकि प्राथमिक टीचर आपको हमेशा से सही जानकारी सरल भाषा हिन्दी मे देने की कोशिश करता है।

Contents hide
Phd Full Form in Hindi

दोस्तों आज के समय मे कौन नहीं चाहता कि वह उच्च शिक्षा प्राप्त करे और सभी से सम्मान मिले साथ मे आर्थिक स्थिति मे अच्छी हो। उच्च शिक्षा लोग इसलिए भी पाना चाहते है क्योंकि उन्हें एक अच्छी सी नौकरी मिल सके और वो अपनी जिंदगी समाज मे सम्मान के साथ जी सके। आज के समय मे जो व्यक्ति ज्यादा पढ़ा लिखा होता है लोग उसको सम्मान देते है।

कई बार आपने देखा होगा कि किसी व्यक्ति के मेडिकल डॉक्टर न रहने पर भी उस व्यक्ति के नाम के आगे डॉ. (Dr.) शब्द लगा होता है। आपके मन मे भी सवाल आता होगा कि यह कैसे संभव है तो आपको बता दे कि यह सब एक प्रकार की डिग्री का कमाल होता है जिसका नाम है पीएचडी। अगर आप Ph.D कर लेते है तो आप अपने नाम के आगे भी डॉ. लगा सकते है।

Phd Full Form

PhD Ka Full form “Doctor of Philosophy” होता है जिसे शॉर्ट में पीएचडी (PhD या Ph.D) कहा जाता है। PhD Full Form in Hindi होता है “डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी”। PhD को D.Phil भी कहा जाता है। सामान्य तौर पर PhD का कोर्स तीन वर्षो का होता है।

Phd Full Form in Hindi

पीएचडी का हिन्दी मे फुल फॉर्म (PhD Full Form in Hindi) “डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी” होता है। PhD करने के बाद आप उस विषय के एक्सपर्ट बन जाते है जिस विषय से आपने पीएचडी कर ली होती है। PhD को लोग डॉक्टर डिग्री के नाम से भी जानते हैं।

Phd क्या है?

PhD, Post Graduation करने के बाद की जाने वाली उच्चस्तरीय सम्मानित डिग्री होती है। जैसे ही आप PhD का कोर्स पूरा कर लेते है तो आप अपने नाम के आगे डॉ. लगा सकते है। किसी व्यक्ति के नाम के आगे डॉ. लगा होना भारत मे बहुत ही गर्व की बात होती है। अगर आप ने PhD कर लिया है तो आपको उस विषय का ज्ञाता माना जाता है।

आप PhD को एक विषय से करने के बाद यदि किसी अन्य विषय से फिर से कर लेते है तो आपको Double PhD Holder का दर्जा प्राप्त होता है जो कि और भी गर्व की बात होती है। इसी प्रकार आप विषय को बढ़ाते रहेगे और Double PhD Holder, Triple PhD Holder का टैग आप अपने नाम करते रहेंगे।

PhD करने के बाद आप के पास बहुत सारे कैरियर विकल्प हो जाते है। किसी भी विषय से PhD करने के बाद आप विश्वविध्यालय के प्रोफेसर भी बन सकते है। हालांकि PhD करना इतना आसान नहीं होता है लेकिन प्रोफेसर बनाने के लिए आपको PhD करना पड़ता है।

PhD एक महत्वपूर्ण डिग्री होती है PhD डिग्री धारक संबन्धित विषय का ज्ञाता होता है इसे करने के बाद आप चाहे तो एनालिसिस्ट या फिर रिसर्चर भी बन सकते है। रिसर्चर वह होता है जो अपने विषय से संबन्धित नयी चीजों की खोज करते है।

PhD कौन कर सकता है? (Qualification for PhD)

वह सभी लोग PhD कर सकते है जिनके पास मास्टर डिग्री होती है। यानि PhD करने के लिए किसी विषय विशेष की मास्टर डिग्री होना आवश्यक होता है। PhD करने के लिए कुछ शर्ते का अनुशरण करना होता है जिन्हे पूरा किए बिना आप PhD करने योग्य नहीं होते है शर्तें निम्नवत है।

  • यदि आप स्नातक तक की पढ़ाई किए है तो आपको परास्नातक भी करना आवश्यक होता है। स्नातकोत्तर के कम से कम 55% अंक होने अनिवार्य हो सकते है क्योंकि कई विश्वविध्यालय मे 55% से कम भी हो तो भी चलता है।
  • PhD करने के लिए आपको UGC NET Exam पास किए होना चाहिए या जिस संस्था से आप PhD करने वाले है उस संस्था का Entrance Exam देना होता है।
  • PhD करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कि आप की उम्र 55 वर्ष से कम होना आवश्यक है। यदि आपकी उम्र इससे ज्यादा है तो आप एड्मिशन लेने से वंचित रह जाते है।
  • PhD Entrance Exam निकालने के बाद आप अपने पसंदीदा विषय से पीएचडी कर सकते है।

PhD करने मे फीस कितनी लगती है? (PhD Full Form in Hindi)

PhD Fee पूरी तरह से उस संस्था या विश्वविध्यालय पर निर्भर करता है जिस संस्था या विश्वविध्यालय मे आप प्रवेश लेने वाले है। PhD करने के लिए फीस कितनी लगती है? इसकी सटीक जानकारी तो आपको संस्था जा कर ही पता चल पाएगी या उस विश्वविध्यालय की वैबसाइट को विजिट कर फीस पता किया जा सकता है।

हम PhD कहाँ से कर सकते है? (PhD Full Form in Hindi)

भारत मे PhD करने के लिए बहुत से संस्थान है जिनमे आप अपना दाखिला ले सकते है। भारत के कुछ प्रमुख विश्वविध्यालयों की सूची नीचे दी गयी है

  • बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय
  • जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU), दिल्ली
  • दिल्ली विश्वविद्यालय, दिल्ली
  • अमित यूनिवरसिटि नोएडा
  • कलकत्ता विश्वविद्यालय, कलकत्ता
  • मुम्बई विश्वविद्यालय, मुम्बई
  • राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर
  • राष्ट्रीय इस्लामी विश्वविद्यालय, दिल्ली
  • अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़
  • क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बंगलुरू

PhD कैसे करें (PhD Full Form in Hindi)

यदि आप PhD करना चाहते है तो हम आपको PhD करने का पूरा रोडमैप बताने वाले है तो आप बिना किसी स्टेप्स को मिस किए बिना पोस्ट को सभी स्टेप्स को ध्यान से पढ़ें।

हाईस्कूल उत्तीर्ण करें

हाईस्कूल की परीक्षा अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण करें PhD करने के लिए यह आपका पहला चरण है।

इंटरमीडिएट उत्तीर्ण करें

12वीं की कक्षा मे आप उसी विषय वर्ग को चुने जिस विषय मे आपकी रुचि ज्यादा हो मतलब आप उस विषय को दिल से पसंद करते हो। आपकी कोशिश यही होनी चाहिए कि 12वीं कक्षा मे कम से कम 75% के उपर आपके अंक आने चाहिए।

स्नातक उत्तीर्ण करें

अच्छे अंक से बारहवीं उत्तीर्ण करने के बाद अब स्नातक मे भी आपको बारहवीं से संबन्धित विषय को चुनना है। स्नातक मे मन लगा कर पढ़ाई करना है क्योकि जितना ज्यादा syllabus आप यहाँ पर कवर कर लेंगे उतना अगली कक्षाओं मे आसानी होगी। स्नातक मे कम से कम 60+ अंक हासिल कीजिये।

परस्नातक उत्तीर्ण करें

परास्नातक की डिग्री को मास्टर डिग्री कहा जाता है तो यहाँ भी उसी विषय वर्ग का चुनाव करे और कम से कम 55% अंक आना चाहिए क्योंकि PhD के लिए न्यूनतम योग्यता 55% ही होती है।

यूजीसी नेट परीक्षा उत्तीर्ण करें

मास्टर डिग्री मे यदि आपने 55% से अधिक स्कोर कर लिया है तो आप UGC NET का फॉर्म भरने के लिए योग्य है। अब आप नेट की परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते है।

आपको बता दें कि UGC NET की परीक्षा साल मे दो बार जून और दिसंबर के महीने मे आयोजित की जाती है यह एक राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा है। PhD मे भाग लेने लिए आपको यह परीक्षा देनी होती है। UGC NET के अलावा भी कुछ परीक्षाएँ होती है जिन्हे आप नीचे अपने विषय वर्ग के अनुसार देख सकते है।

  • NCBS
  • NET JRF
  • DBI
  • ICMR JRF
  • JNJ PHD

PhD प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करें (PhD Full Form in Hindi)

PhD मे प्रवेश के लिए आप जिस विश्वविध्यालय मे अपना प्रवेश लेना चाहते है उस विश्वविध्यालय के द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा देना होता है यह भिन्न-भिन्न विश्वविध्यालयों के लिए भिन्न-भिन्न हो सकता है। इसकी सम्पूर्ण जानकारी आप संबन्धित विश्वविध्यालय की वैबसाइट से जानकारी ले सकते है या खुद विश्वविध्यालय जा कर सुनिश्चित कर सकते है।

जैसे ही आप उस विश्वविध्यालय की प्रवेश परीक्षा अच्छे अंकों से पास करते है जिस विश्वविध्यालय मे आप अपना दाखिला करवाना चाहते है तो आप उस विश्वविध्यालय मे अपने मनपसंद विषय से PhD कर सकते है।

PhD कितने साल का कोर्स होता है? (PhD Full Form in Hindi)

हमारे भारत देश मे PhD कोर्स को पूरा करने मे समान्यतया 3-5 वर्ष का समय लग जाता है। कुछ लोगों को तो 5 वर्ष से भी अधिक का समय लग जाता है। यह निर्भर करता है कि आप अपने कोर्स को लेकर कितने लगनशील है अगर आप अच्छे से मेहनत करते हो तो आप कोर्स को समय पर पूर्ण कर सकते हो।

PhD किस विषय से करें? (PhD Full Form in Hindi)

PhD की डिग्री लेने के लिए आपको बहुत सारे विषय मिल जाते है जिन पर आप PhD कर सकते हैं लेकिन हम आपको कुछ प्रमुख और विख्यात विषय की सूची नीचे दे रहे है जिनसे आप PhD करते हो तो आपको Dr. की बड़ी उपलब्धि मिलती है।

हिन्दी
एग्रीकल्चर
अँग्रेजी
इतिहास
ललित कला
होम साइन्स
भूगोल
अकाउंटिंग
जीव विज्ञान
भौतिक विज्ञान
रसायन विज्ञान
अर्थशास्त्र
फार्मेसी
राजनीति विज्ञान
दर्शन शास्त्र

PhD की तैयारी कैसे करें? (PhD Full Form in Hindi)

अगर आप बारहवी या स्नातक के छात्र है तो आप आपने पसंदीदा विषय जिसमे आप PhD करना चाहते है उस विषय की बेसिक से अड्वान्स की तैयारी करें और साथ मे UGC NET के अभी तक के हो चुके परीक्षाओं के Question Papers को हल करें। याद रहे PhD करना मुश्किल हो सकता है लेकिन नामुमकिन बिलकुल भी नहीं है।

यदि आपने अभी-अभी मास्टर डिग्री ली है और PhD करने की सोंच रहे है तो आप अपने समय को सही दिशा मे लेकर आयें और मेहनत चालू कर दे। तैयारी करने के लिए इंटरनेट पर बहुत सारे Pdf व ई-बुक्स उपलब्ध है जिनको पढ़कर आप अपनी तैयारी को मजबूत कर सकते है। अगर जरूरत है तो कोई अच्छी सी कोचिंग संस्था जॉइन कर अपनी तैयारी मे चार चाँद लगा सकते है।  

PhD Course मे प्रवेश लेते समय लगने वाले Documents

PhD करने के लिए विश्वविध्यालय मे प्रवेश के समय/ एडमिशन के वक्त आपसे निम्न Documents लिए जा सकते है।

  • आधारकार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • हाईस्कूल मार्कशीट
  • इंटरमीडिएट मार्कशीट
  • स्नातक मार्कशीट (BA/BSC/BCOM)
  • परस्नातक मार्कशीट (MA/MSC/MCOM)
  • UGC NET/JRF Certificate

PhD Course करने के फायदे (PhD ka Full Form)

  • PhD कोर्स करने के बाद आपके नाम के आगे ‘डॉक्टर’ शब्द लग जाता है जो कि बहुत ही सम्मान की बात होती है।
  • PhD करने के बाद आप किसी सरकारी या गैर सरकारी विश्वविध्यालय मे प्रोफेसर/प्राचार्य बन सकते है।
  • PhD करने के बाद आप जिस भी विषय से PhD किये है आप उस विषय के ज्ञाता कहे जाते है आप उस विषय पर रिसर्च भी कर सकते है।
  • PhD शिक्षा की सबसे बड़ी डिग्री मे से एक होती है तो आप शिक्षा के क्षेत्र के ज्ञाता कहे जाते है।
  • PhD करने के बाद समाज आपको सम्मान की नजरों से देखता है।

यह भी पढ़ें-

PhD Ka Full Form Hindi FaQ

पीएचडी को हिंदी में क्या कहते है?

पीएचडी को हिन्दी मे “डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी” कहते हैं।

पीएचडी का मतलब क्या होता है फुल फॉर्म?

पीएचडी का मतलब “डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी” होता है

क्या पीएचडी के लिए नेट जरूरी है?

देश के कुछ यूनिवर्सिटीज़ व उच्च शिक्षण संस्थानों मे पीएचडी कोर्स करने के लिए UGC NET जरूरी होता है सभी यूनिवर्सिटीज़ व उच्च शिक्षण संस्थानों मे नही।

पीएचडी की सैलरी कितनी है?

पीएचडी करने के बाद सालाना सैलरी की बात की जाए तो आपको पीएचडी करने के बाद सैलरी 5 से 10 लाख रूपया तक हो सकती है।

पीएचडी में कौन कौन से विषय होते हैं?

पीएचडी मे हिन्दी, अँग्रेजी, होम साइन्स, अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान, ललित कला, आदि जैसे अनेकों विषय होते है।

पीएचडी से बड़ी डिग्री कौन सी होती है?

पीएचडी से बड़ी डिग्री एम.फिल की होती है।

पीएचडी के बाद क्या पढ़ाई करनी चाहिए?

पीएचडी के बाद एम. फिल की पढ़ाई करनी चाहिए।

दुनिया की सबसे बड़ी डिग्री कौन सी है?

पीएचडी की डिग्री सभी विषयों मे उपलब्ध है सामान्यतया इसी डिग्री को सबसे बड़ी डिग्री माना जा सकता है।

क्या मैं बिना नेट के पीएचडी कर सकता हूं?का

हाँ कुछ संस्थान देश मे ऐसे भी है जो बिना नेट के पीएचडी करने का मौका देते हैं।

शिक्षा में सबसे ज्यादा डिग्री कौन सी है?

शिक्षा की सबसे बड़ी डिग्री आम तौर पर पीएचडी को ही माना जाता है।

मैं 12वीं के बाद पीएचडी कैसे कर सकता हूं?

12वी के बाद आपको स्नातक 55% अंक के साथ पास करने के बाद परास्नातक करना होता है उसके बाद UGC Net Exam पास करने के बाद आप पीएचडी कर सकते है।

मास्टर्स और पीएचडी में क्या अंतर है?

मास्टर्स की डिग्री स्नातक के बाद की जाने वाली डिग्री होता है और पीएचडी की डिग्री किसी विषय मे रिसर्च करने के बाद प्राप्त होती है।

हमे पूरा भरोसा है कि आपको यह पोस्ट PhD ka Full Form Kya Hai जरूर पसंद आया होगा। हम हमेशा से यह कोशिश करते रहते है कि हम आपके लिए अच्छा से अच्छा Content लेकर आए। हम आशा करते हैं कि अब आपको Phd Full Form in Hindi से संबन्धित सभी जानकारी मिल गयी होगी।

अगर आपके पास आर्टिकल से संबन्धित कोई सुझाव व सवाल है तो आप हमे नीचे कमेंट के माध्यम से बता/पूंछ सकते है। यदि आपको आज की यह पोस्ट पसन्द आई है तो आप अपने Friends के साथ इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करे।